Uncategorized

बेमौसम बरसात ने किसानों को एक बार रुलाया, नुकसानी का आकलन कर मुआवजा देने की मांग।

रायपुरिया@राजेश राठौड़ 

रायपुरिया निप्र। मंगलवार शाम से बुधवार सुबह तक रुक रुककर हुई बेमौसम बारिश ने किसानों को एक बार फिर रुला दिया है। अचानक से हुई बरसात से किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है। खेत मे खड़ी गेंहू की फसल जमीन पर गिर जाने से न केवल फसल ख़राब हुई बल्कि उनकी उम्मीद भी टुट गई।

जानकारी के अनुसार किसानो को पहले ही कपास ने निराश किया है ऐसे में किसानो को गेंहू से काफी उम्मीदें थीं। लेकिन बुधवार सुबह किसान अपने खेतों पर पहुंचे तो उनकी आंखो में आसूं आ गये ।

किसान नारायण सेप्टा के 18 बीघा में गेहूं की फसल बोई हुई थी । ऐसा ही रमेश चौयल, गजेन्द्र सेप्टा , अल्पेश पाटीदार, लालसिह चौधरी, हिरा वाखला , कैलाश मेडा सहित ऐसे कई किसान है जिनको नुक़सान हुआ है।

नुकसानी का आकलन करने की मांग..

ग्राम पंचायत मातापाडा के गांव सागडीया के राजस्व हल्का क्रमांक 43 में अधिक नुक़सान हुआ है। किसानों ने जिला प्रशासन एवं राज्य सरकार से मांग की है कि उनकी नुक़सानी का सर्वे करवा कर आर्थिक सहायता दी जाए । भारतीय किसान यूनियन के जिला महामंत्री जितेंद्र पाटीदार ने बताया कि कई स्थानों पर यह फसल काट कर फेंकने जैसी हो गई, क्योंकि जमीन पर गिरने बाद गेहूं के दाने बालियों नहीं आते हैं किसानों ने क्षेत्र के पटवारी नुकसानी के बारे अवगत कराया लेकिन जिम्मेदार अभी तक खेतों पर नहीं पहुंचे है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×

Powered by WhatsApp Chat

×